भारत मे क्या तीसरी कोरोना की लहर आएगी ? | Coronavirus Third Wave

इंडिया मे आभि कोरोना संकट आपने चरम सीमा पर आ गया है ओर उस मे भी कई वैज्ञानिक ने ये भी आशाका लगाई है की कोरोना की तीसरी लहर आने वाली है। भारत अभी दूसरी लहर से जुज़ रहा है ओर दूसरी लहर की भविष्यवाणी डॉक्टर ओर वैज्ञानिको ने कर दी है।

Coronavirus Third Wave

भारत मे अभी कई राज्य जहा पर कोरोना के हालत सबसे खराब ओर भारत मे ऑक्सीज़न की कमी भी हो रही है उस परिथिति मे तीसरी लहर बहुत घातक साबित हो सकती है। गुजरात मे डायबिटिस के मरीजो मे फग्स देखा गया है उसमे लोगो को देख ने की प्रोब्ल्र्म हो रही है दूसरी तरफ केरल मे कोरोना 15 गुना तेजी से फेल रहा है।

बड़े डॉक्टर ओर वैज्ञानिक का कहना है की तीसरी लहर आने से पहले तैयारी शुरू करनी पड़ेगी उसमे भारत सरकार ने आभि कई टीम बनाई है जो जरूरत के समान की सप्लाय चेन बनाए उसे जरूरत का समान जेसे की दवा,ऑक्सीज़न समय पर पहोच सके

भारत मे अभी कई राज्य मे कोरोना के केस कम आने लगे है अब सरकार को तीसरी लहर से देश को बचा ने के लिए सकत नियम का पालन देश के लोगो को करना पड़ेगा। दिल्ली ओर मुंबई जेसे राज्याओ मे कोरोना के नियम सक्त करने पड़ेगे। भारत मे वेक्सीन ज्यादा मात्रा मे लोगो को लगाई जाय तो तीसरी लहर से बच सकते है। इंग्लैंड,अमेरिका जेसे देश ने वेक्सिन ज्यादा लोगो तक देकर कोरोना का सक्रमन कम करने मे कामियाब हो गए है।

इस दौरान कोरोना के मरीज की घर में कैसे देखभाल की जाए, इस पर बताया गया कि आजकल के माहौल में अगर आपको शुरुआती लक्षण जिसमें बुखार आना, गले में दर्द, खांस…

किन चीज़ो का पालन करके आप अपने आप को सुरक्षित रख सकते(कोरोना ) है ?

हाला  कि, आज तक कोई भी  वैक्सीन या दवाई नही बनि है कोरोना वायरस के इलाज के लिए | WHO और  CDC के अनुसार निम्नलिखित चीज़ो का  पालन करके इन्फेक्शन कि रिस्क कम हो सकती है – 

  • अपने हाथों को कुछ समय के अंतर नियमित साफ करें। साबुन और पानी का उपयोग करें, या अल्कोहॉल आधारित सैनीटाइज़र से हाथ रगड़ें।खांसने या छींकने पर अपनी नाक और मुंह को अपनी मुड़ी हुई कोहनी या एक टिश्यू से ढक लें।COVID-19 से  पीडित लोग से या खांसी या छींकने वाले किसी से भी सुरक्षित दूरी बनाए रखें।दूर रहे |अपनी आँखें, नाक या मुंह को न छुएं।यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं तो घर पर रहें। अपने बर्तन, गिलास और बीएड किसी से शेयर ना करे |यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई होती है, तो इलाज कराएं।ज़्यादा इस्तेमाल  करने वाले जगहों को नियमित तरीके से डिसइंफेक्टेंट से साफ़ करते रहे |अगर आप बीमार है, तोह पब्लिक जगहों से दूर रहे जैसे कि स्कूल, ऑफिस आदि।अपने स्थानीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के निर्देशों का पालन करें।

Leave a Comment