सुंजवां आतंकी हमले में खुलासा: ट्रक में कम जगह होने के कारण दो आतंकी ही मौके पर पहुंचे, चालक बिलाल और इश्फाक गिरफ्तार

[ad_1]

सुंजवां आतंकी हमले की जांच में अहम खुलासा हुआ है। आतंकियों को सांबा से सुंजवां पहुंचाने वाले ट्रक चालक बिलाल अहमद बागे और सहयोगी इश्फाक चोपान पहले भी सांबा और जम्मू से आतंकियों को कश्मीर लेकर गए हैं। इन आतंकियों ने 20 अप्रैल को ही सीमा पार से घुसपैठ कर ली थी। सीमा पार से चार आतंकियों को भेजा जाना था, लेकिन ट्रक में जगह कम होने के चलते सिर्फ दो ही भेजे गए। बता दें कि बिलाल और इश्फाक को पुलिस ने कश्मीर के अनंतनाग से हिरासत में लिया है। इनके पास से 407 वाहन भी जब्त कर लिया गया है।

 

ट्रक में बनाए गए गुप्त ठिकाने में आतंकियों को छुपाया गया

इस ट्रक में बनाए गए गुप्त ठिकाने में आतंकियों को छुपाया गया था। पुलिस की जांच टीम ने रविवार सुबह सपवाल के उस स्थान का दौरा किया। जहां से इन आतंकियों को ट्रक में चढ़ाया गया था। अब इस जगह के आगे जांच टीम एक रूटमैप तैयार करेगी कि आखिर यह बॉर्डर के किस प्वाइंट से घुसपैठ करके आए थे। इसके लिए जांच टीम सपवाल से बॉर्डर तक सर्च करेगी। ताकि देखा जाए कि यह लोग कहां से आए और कहीं इन्होंने कोई सामान तो नहीं छुपा रखा। 

 

जांच के लिए भेजे टूटे मोबाइल फोन

पुलिस ने आतंकियों के दोनों मोबाइल फोन जांच के लिए प्रदेश से बाहर एफएसएल भेजे हैं। इन मोबाइल फोन से पूरा डाटा रिकवर किया जाएगा। इसमें व्हाट्सएप पर होने वाली बातचीत जिसे डिलीट किया होगा, वो सब रिकवर किया जाएगा। इसमें कई अहम तस्वीरें और वीडियो सामने आ सकते हैं। जो इस पूरी साजिश का पर्दाफाश करने में मददगार साबित होंगे। 

 

एनआईए को सौंपा जाएगा मामला

सूत्रों का कहना है कि जल्द ही यह मामला एनआईए को अधिकारिक तौर पर सौंपा जाएगा। पता चला है कि आतंकी बड़ी वारदात को अंजाम देने आए थे, क्योंकि पहली बार आतंकी इतनी तैयारी से आए थे। इससे पहले गोला बारूद से भरी जैकट पहनकर आतंकी कभी जम्मू नहीं आए थे। इससे पहले भी इस तरह के हमलों की जांच एनआईए को सौंपी गई है। 

 

दो महीने से जम्मू में काम कर रहा था शफीक, भाई आसिफ है मास्टरमाइंड

जम्मू। इस मामले में पुलिस ने पुलवामा के त्राल मे रहने वाले शफीक शेख को गिरफ्तार किया है। शफीक दो महीने से सुंजवां में इकबाल के घर रह रहा था। शफीक नरवाल की अखरोट फैक्ट्री में काम करता है। इकबाल भी कश्मीर का रहने वाला है, जिसका सुंजवां में घर है। शफीक का भाई आसिफ इस पूरी साजिश का मास्टरमाइंड है, जिसने शफीक को अपने साथ लगाया था। फिलहाल आसिफ अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। संभव है कि वह आतंकी बन चुका हो और यह भी संभव है कि वह पाकिस्तान चला गया हो। 

 

[ad_2]

Source link

Leave a Comment

%d bloggers like this: